Monday, October 18, 2010

चिंता क्यों करते हो

baहुत दिनों से कुछ लिखना ब्लॉग्गिंग करना बंद रहा सिलसिला शुरू हो सके इसलिए मेरे परम आदरणीय मुकुट बिहारी सरोज की एक रचना आपके लिए प्रस्तुत है

चिंता क्यों करते हो गलत बयानी प़र बूढ़ी दुनिया की
न्यायाधीश समय निर्णय कर देगा अपनेआप एक दिन

व्यर्थ नहीं जाता है बोया हुआ पसीना
अलबत्ता उगने में देर भले हो जाये
एक न एक रोज़ सुनवाई होगी श्रम की
मौजूदा युग में अंधेर भले हो जाये
अगर तुम्हारी फसल रही निर्दोष बादलों का विरोध क्या
सागर खुद क्यारी क्यारी भर देगा अपने आप एक दिन

बात अभी ऐसी है ये जितने वकील हैं
इन सबके मुहं बंद कर गयी है तरुणाई
ये पत्थरदिल कभी अश्रु का पक्छ न लेंगे
बे कसूर मर जाये भले कोंई तरुणाई
गिरफ्तार हो गए तुम्हारे नाबालिग sapne इससे क्या
सूरज खुद उड़ने लायक पर देगा apne aap ek din

इसमें कोंई शक नहीं कि हर रिश्वती बाग में
मौसम की मान मणी खुले आम चलती है
लेकिन इसका यह मतलब हरगिज़ मत लेना
दुर्दिन की अंधियारी रैन नहीं ढलती है
निर्वासित कर दिया तुम्हारा फूल क्यों कि काफी हँसता था
जंगल में मधुमास स्वयं घर देगा अपने आप एक दिन

Saturday, February 27, 2010

अप्प होली भव:



यह होली का समय है। समय के रथ पर बैठकर परिवर्तन आता रहता है एक समय था जब उम्र जताने के लिए देखे हुए बसन्तों की गिनती बताई जाती थी। अब बसन्त देखने ही नहीं मिलते। बसन्त तो पेड़ों पर आता था। पेड़ जंगल में पाये जाते थे,अब जंगलात कागजों में बचे हैं। बसन्त, जंगल लीलने वालों के दरबाजों की चौखटों में जड़ा है । फर्नीचर बन के अलसाया पड़ा है । जंगलात के पूरे मंगलात और पूरी समृद्घि लिये वहीं आराम से रह रहा है। ए.सी.के इशारों पर बारहो महीने वहीं नाचता है।
जब बसंत नहीं बचा तो उम्र जताने के लिए होली दिवाली नै अपनी सेवाएं देना स्वीकार कर लिया। कुछ जी अपनी उम्र दीवाली से बताते हैं तो कुछ होली से। दीवाली से उम्र बताना भाग्यशालियों के भाग में आता है। जिनके भाग्य फूटे टूटे हैं उन्हें तो दीवाली मनाने के लिए भी होली की तरह जलना पड़ता है॥
होलिका असल में उन्ही की बहन थी हिरण्यकश्यप ने तो उसे चुनावी बहन बनाया था। चुनाव में तो जाने किस किसको क्या-क्या नहीं बनाना पड़ता। गधे को बाप कहना पड़ता है और खुद किसी-किसी को सुअर तक होना पड़ता है।
प्रहलाद उसी होलिका की गोद में पला बढ़ा था जो आम आदमी की आम बहन है जिसकी जान की और लाज की कीमत न कल थी न आज है जब तक आम बने रहेंगे उनका रस (खून)पिया जाता रहेगा यही व्यवस्था का राज है। आज प्रहलाद तो नहीं है लेकिन उसका भाई आह्लाद है। गरीब तिल तिल होलिका की तरह जीवित जलते हैं आह्लाद उसकी गोद से निकलकर हिरण्यकश्यप की उंगली थामे चलते हैं। किसान दिन रात मेंहनत कर फसलें उगाते हैं और बिचौलिये घर पर बैठकर उनके पसीने पर सट्टा लगाकर करोड़ों अरबों कमाते हैं।
समय के रथ पर बैठकर और भी परिवर्तन आये हैं। गरीब शब्द का एक पर्यायवाची कार्यकर्ता भी हो ेगया है। देश मे जितने भी राजनैतिक दल है उनके अधिकांश कार्यकर्ता सालभर होली मनाते हैं। वे अपने धन की समय की होली जलाते हैं। होलिका की भूमिका निबाहते है और नेताओं को हिरण्य(स्वर्ण) कच्छप बनाते हैं। हिरण्य पाकर नेता कच्छप हो जाते हैं। देश की समस्याओं, जनता के दुख के अंगारे उनकी कठोर पीठ का कुछ नहीं बिगाड़ पाते। कठोर जीवन की संभावना सामने आते ही वे तुरन्त अपना मूंह छुपाकर अपनी पीठिका पर वेशर्म निश्चल पड़े रहते हैं।
देश में आग लगी है महंगाई की लपटों से आम (जन) का रस जल रहा है, पेटों में भूंख की ज्वाला धधक रही है लेकिन हिरण्यकच्छप दीवाली मना रहा है। वह बम फोड़कर धमाके कर रहा है जब कार्यकर्ता जवाब मांगते हैं तब ये हिरण्यकच्छप फट से अपना दर्शन कराते हैं, अपना दर्शन सुनाते हैं।
ये कहते हैं- देखो हम भी जल रहे हैं। ईष्र्या, द्वेष, अहंकार, वासना, और लालच की आग में हम भी जल रहे हैं। मगर हमें तो यह आग बड़ी मीठी लगती है, जैसे कि कड़क सर्दी में सुलगती सिगड़ी भली लगती है। तुम हमें बेवकूफ मत बनाओ। हमारी तरह जलकर होली नहीं, दीवाली मनाओ अगर यह नहीं कर सकते तो खुद में क्रोध की ज्वाला जलाओ, अप्प होली भव: का मंत्र अपनाओ और अपने आक्रोश की लपटों में इस व्यवस्था की गंदगी जलाओ।
लुटेरों को पहचानों, पकड़ो और वहिष्कार की आग में जलाओ वर्ना खुद ही जलो, जलते रहो। हमें होली पर दीवाली मनाने दो तुम अगर अवसर को नहीं भून पाओ तो हाथ मलते रहो।

Sunday, January 17, 2010

वसंत पंचमी की शुभ कामनाए

सरस्वती वंदना



भावनाओं में ,कामनाओं में ,शौर्य सुधा भर दे

वीणा वादिनी ,मातु शारदे ,,राष्ट्र भक्ति वर दे



नीति सन्मति ,सत्य संस्कृति ,सम-आदर ,विश्वास

समता-समरसता के पथ पर दृढ़ प्रतिज्ञ अनुप्रास

अजर-दिव्यता ,अतुल-भव्यता ,,'पूर्ण प्रतिष्ठा दे

सहयोगी सह-भागी भारत , संकुल निष्ठां दे



विज्ञ -तग्यता ,ओज, सभ्यता ,विनत विश्व आकाश

अंतर भारत के जीवन में ,प्रबल -प्रेम,नित्-हास

गुडानुरागी, व्यसन-विरागी तरुण ,सुविद्या दे

धर्मं-अधिष्ठित अखंड भारत ,योगी प्रज्ञा दे



समुचित वृष्टी ,नियमित ऋतुयें , धान, मान ,दिनमान

गौरव पूरित सदय ह्रदय में ,शक्ति-मान अभियान

आत्मा-चेतना , विश्व-योजना , श्रम-तत्परता दे

दुर्जन-हन्ता, सज्जन भारत ,, सत -उर्वरता दे

LinkWithin

विजेट आपके ब्लॉग पर