Monday, April 15, 2013


dye ftu ds gkFkksa esa gS
D;k mUgsa irk Hkh gS ]] fd
izy; vkSj l`tu  ] muds gkFkksa esa gS

vko”;d gS ;g tkuuk]]A
ftu gkFkksa esa dye gS
muds fnekx esa D;k gS
fny es D;k gS A
muds fu”kkus ij dkSu gS
D;k ;kstuk gS
muds eu esa A

mudk fopkj izokg
mudh “kCn “kfDr dks
dgkW ys tkuk pkgrk gSA

D;k mUgksusa ;g dkS”ky
fodflr dj fy;k gS
fd os vius dzks/k dks
izsjd fo|qr esa cny ldsa
Lo;a esa izokfgr d#.kk ls
nq%[k nX/k g`n;kss dks
“khry dj ldssaA

dye ls fudyrh mtkZ dks
os fdl #i esa varfjr
djuk pkgrs gSaA

os bls [ksrksa esa ygygkrh
Qlyksa dh /kqu ij
xhr xkrs iaf{k;ksa vkSj fdlkuksa ds
dksjl esa cny ldrsa gSaA


bu ys[kfu;ksa ls
e”khuksa ij u`R; djrs
iqtksZa ] vkStkjksa ds lkFk
mRikndrk dh ekndrk esa fFkjdrs
etnwjksa ds  varl ds
lkdkj n`”; Hkh fudy ldrs gSaA

ij ;gh vlko/kku mtkZ
lkekftd dk;ksZa dh vkM- esa
jktuhfr dk ik[kaM iki
[kM-k dj ldrh gS
;gh vlarqfyr “kCn mtkZ
Lo;a ds lEeku dks izkFkfedrk
nsus okyksa ds gkFkksa ls fudy dj
naHk vkSj neu ds
bZ’;kZ vkSj dyq’k ds
cncwnkj okrkoj.k dks
vkSj Hkh cM-k dj ldrh gSZA

D;ksa fd
dgk x;k “kCn
okil ugha vkrk gS
vr% vko”;d gS ;g tkuuk
fd bldk izHkko dgka dgka rd
D;k D;k mitkrk gS A

ns[kk x;k gS
vcks/k lk/kdksa dks
lEeksfgr ] izyksfHkr gks dj
vFkZ dk vuFkZ djrs
ekuork fojks/kh ] jk’Vz~fo?kkrdksa dk
xq.kxku djrsa ]
izdkjkraj ls jk’Vz~nzksg djrs
“kks’kdksa ]nq%”kkldks dk dop curs A
I;kyh es Tokj&HkkVs yk jgs
;gh dyedkj leosrrk esa
lq[kn ifjorZu dk
okgd cu ldrsa gS A
vk/;kfRedrk ] lkewfgdrk dh lk/kuk
vkSj jk’Vz~h; psruk ls tqM-dj
fo”o es le`f) dh c;kj
lqfuf”pr dj ldrsa gSaA

vkb,
ekuork ds ewY;ksa ds fy,
viuh lk/kuk lefiZr djsa
fo”o dY;k.k ds fy,
tu dY;k.k dh ] jk’Vz~ dY;k.k dh
tho dY;k.k dh t; djsa

_f’k;ksa dh Fkkrh dks
vk/kqfudrk ds Loj esa
Hkjus dh lk/kuk dh vksj
vius ix Hkjsa A









Tuesday, March 26, 2013

 होली खेले सरकार 
क्यूँ चिंतित हो बेकार ,,,,,,,,,,,,,,,

दो कोठरियां हुई खाली 
अब किसे परोसे थाली 
अफजल और कसब के बाद 
किसी का तो होगा सत्कार ,,,,,,,,,,,,

क्यूँ चिंतित हो बेकार ,,,,,,,,,,

क्योंकि अब रहा नहीं मैकाले 
इसलिए अबकी मायके वाले 
क्यां करें ,,पद गयी है आदत 
लचर को दिखना है लाचार ,,,,,,,

क्यूँ चिंतित हो बेकार ,,,,,,,,,,

व्यस्त चुनावों में पाकिस्तान 
इसलिए सिस्टम है हैरान 
उन्हें फुर्सत नहीं इस ओर 
हमारी आदत खाना दुत्कार ,,,,,,,

क्यूँ चिंतित हो बेकार ,,,,,,,,,,

माफी पर हंगामा 
बेकार का फुर्सत नामा 
जोकर होकर रह जाओगे 
सब पजामे बन रहे  मामा 

सिस्टम को सिफलिस है 
वेंटीलेटर पर मुफलिस है 
जिनको हक है माफी दे देंगे 
जिनमे दम  है वो लेलेंगे 
आम आदमी आम रहेगा 
तुम हो नही सकते गामा 

Wednesday, March 13, 2013

हो सकी इसलिए भ्रष्ट,मति भाई जी  सरकार की  
 करके केवल टिप्पणी  खाना पूरी हर बार की 
क्या कोइ उपकरण है कवि जी आपके पास 
जिसे साध कर बंध सके भारत का विश्वास 
भारत का विश्वास सदा पुरुषार्थ रहा है 
अपना अतीत संघर्षों का इतिहास रहा है 

 कौन  राष्ट्रहित प्रथम हमारा भाव खा  गया 
कैसे महापुरुष  वृद्धों में ईर्ष्या का भाव आ गया 
जब  सीख लिया हमने मूल्यों का पतन देखना 
एकान्तिक  जीवन में ही सुख व्यसन देखना 
हम दंड नहीं  दे सके तटस्थों को इस युग में 
इसीलिये है अधोगति हम सबकी इस युग में 

Thursday, March 7, 2013

जमीं  की बात करता हूँ जमीं  वालों की बात करता हूँ
जिनका वास्ता नहीं वतन से उनसे मुक्का लात करता हूँ

जमीर बेच के सर जमीं बेच के जो लोग जेवरों से लदे


अपने वजूद से मिलना ,अपनी ही सांसों में पिघलना

बहुत खूब लिख दिया है सफर नामे के साथ चलना

बधाई


देख तेरा दीवाना कैसे मारा मारा फिरता है 
घर से लेकर घाट तलक ये बेचारा फिरता है 

चाह  में तेरी चातक सा पीहू पीहू रटता है 
चौराहों से चौबारों तक आहें भरता फिरता है 

कई बरातें  हुईं सुहागन ,कितने गधे चढ़े घोड़ों 
वर मालाएं  मन में लेकर एक कुवांरा फिरता है 

यूँ  कहना अनुभूति  मुश्किल,, पर समझो 
गर्म धुप में नंगे तन पर ज्यूँ अंगारा फिरता है 

उसने तो मन बना लिया ,,तेरे गले लटकने का 
जबतक घर न बस जाये एक बंजारा फिरता है 

LinkWithin

विजेट आपके ब्लॉग पर