Monday, April 27, 2009

मनोज भाई
यह गजल आपको समर्पित कर रहा हूँ


आंखों के सामने नहीं दिल में ख्याल में
हरदम रहा वो साथ ,खुशी में मलाल में

जागी जो रात साथ, बुरा मान गया दिन
शक हो गया खलल का हक में हलाल में

उल्फत के राग मैंने आंखों से सुन लिए
खोया हुआ था वोमेरे खत में ख्याल में

सुलगता हुआ मिला ,हंसता हुआ सितारा
बैचेन हो रहा था , ...खुदी के सवाल में

गर्दूं को बहुत ढूंढा , .अब जाके मिला है
बैठा हुआ था बन्दा कबीर-ओ-जमाल में

13 comments:

  1. गर्दूं को बहुत ढूंढा , ...अब जाके मिला है
    बैठा हुआ था बन्दा कबीर-ओ-जमाल में
    वाह वाह क्या बात है गर्दू जी, आप लिखते बड़ा कमाल हैं.
    ऐसे ही लिखते रहिये हमारी शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  2. सुलगता हुआ मिला ,हंसता हुआ सितारा
    बैचेन हो रहा था , ...खुदी के सवाल में

    शानदार ग़ज़ल का शानदार शेर.
    बधाई.

    चन्द्र मोहन गुप्त

    ReplyDelete
  3. उल्फत के राग मैंने आंखों से सुन लिए
    खोया हुआ था वो मेरे खत में ख्याल में
    waah!
    yah sher khaas pasand aaya.

    umda gazal.

    [aap ne jo prashn kiya..us ka uttar dena bahut mushkil hai..kyonki abhimanyu bana kar koi pane jigar ke tukde ko is charvyuh mein nahin bhejna chahega..umeed yahi rahti hai ki arjun ki tarah bane...baqi sab upparwale ke haath..ham sirf koshish kar saktey hain..maga r yah to tay hai ki
    --dushman har baar naya chakrvyuh rach raha hai.

    ReplyDelete
  4. आंखों के सामने नहीं दिल में ख्याल में
    हरदम रहा वो साथ ,खुशी में मलाल में

    wah gafil ji har sher hi kabil-e-tareef hai.

    ReplyDelete
  5. मनोज जी को सनार्पित हमने भी पढ़ ली.......

    आंखों के सामने नहीं दिल में ख्याल में
    हरदम रहा वो साथ ,खुशी में मलाल में

    वाह......!!

    गर्दूं को बहुत ढूंढा , .अब जाके मिला है
    बैठा हुआ था बन्दा कबीर-ओ-जमाल में

    हमने भी ढूँढ लिया गर्दूं जी आपको .....!!

    ReplyDelete
  6. बहुत ही खुबसूरत लिखा है आपने ......
    एक श्वेत श्याम सपना । जिंदगी के भाग दौड़ से बहुत दूर । जीवन के अन्तिम छोर पर । रंगीन का निशान तक नही । उस श्वेत श्याम ने मेरी जिंदगी बदल दी । रंगीन सपने ....अब अच्छे नही लगते । सादगी ही ठीक है ।

    ReplyDelete
  7. BAHUT UMDA GAZAL !

    JAGEE JO RAAT SAATH BURA MAN GAYA DIN .
    TOO MERA HAI AASHIQ TO JAG SATH SATH ME !

    ReplyDelete
  8. आंखों के सामने नहीं दिल में ख्याल में
    हरदम रहा वो साथ ,खुशी में मलाल में....uske khayl me jab kho sa jaata hun..woh khud bhi baat kare to bura sa lage mujhe...

    ReplyDelete
  9. gazab.........adbhut.........pyaari......!!

    ReplyDelete
  10. Gaafilji, apkee rachnaonkee kayal hun, kahun to badaahee aam shabd ho jata hai...jis manasik sthiteeme iswaqt hun,shayad mujhe koyee alfaaz soojhbhee nahee rahe..ek zabardast dardko seeneme chhupaye huee thee, jo aaj Harkiratjee kaa ek comment kisee blogpe padha to mano fat pada...maine to apneaapko zapt karke rakh liya tha..."thelightbyalonelypath" bhee inactive kar dena pada...maine har cheez kahamosheese kee, lekin jab wo comment padhaa to mujhse raha nahee gaya...shayad koyeebhee gairatmand aurat yahee kartee. Aap unke blogpe jaate rehte hain...kaheen achrajme naa pad jaayen isliye ittelaa dedee...ab mujhme apne poorn saty kee taqat hai...kaheen koyee, apardarshitaa nahee...sab kuchh khoke hoshme aanekee koshish me hun...
    Aur gar aap meree is baatse kaheen aahat hue hon to maafee chahtee hun...aapjaise fankaar dost ko khona nahee chahtee...pichhale kuchh dinome itnaa khoya hai ki aur jhelnekee shaktee nahee rahee...
    snehsahit
    shama

    ReplyDelete
  11. lagaatar aur behtar hoti chali gayee panktiyaan jiske kaaran asar sabse zordaar rahaa....bahut hi behatareen rachna...

    www.pyasasajal.blogspot.com

    ReplyDelete
  12. आपकी टिपण्णी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
    वाह वाह क्या बात है! आपने इतना ख़ूबसूरत ग़ज़ल लिखा है कि दिल को छू लिया है!

    ReplyDelete
  13. गजब है सर जी..... मान गए. 1-1 सब्द कमाल है...

    ReplyDelete

LinkWithin

विजेट आपके ब्लॉग पर