Sunday, May 10, 2009

बहोत अंधेरा घिर आया है दिल की राहों में
जलाओं दीप मोहब्बत के तुम निगाहों में

हुज़ुमे गम है चुभन दिल में नमी आंखों में
लोग डूबे हैं अंधेरों में सुरुरों में औ अनाओं में

करूं निसार हजार बार ये जिंदगी तुझ पर
दौर ऐ गर्दिश में भी जीता रहा वफाओं में

हर तरफ तंज़ कहीं रंज ,है बदगुमानी कहीं
सुकूने ऐ दिल की तलब है मेरी सदाओं में

संभलो तहजीब पे हमलों का दौर है गर्दूं
बहोत है दर्दे वतन मरहम चढाओ घावों में

18 comments:

  1. आपकी कहन तो अच्छी है मगर मुझे आपकी गजल बेबहर लगी
    आपका वीनस केसरी

    ReplyDelete
  2. बहोत अंधेरा घिर आया है दिल की राहों में
    जलाओं दीप मोहब्बत के तुम निगाहों में
    boht hi sunder...

    ReplyDelete
  3. एकबस महब्बत चाहत मकाम है मेरा
    बेइल्म हूँ मगर गुनगुनाना काम है मेरा

    कसीदाकारी है गोया हुनरमिजाजों की
    मै सुनार नहीं लोहे का काम है मेरा

    मैं तो उलझा हूँ खुशबुओं की खेती मे
    सजाओ तुम गुल खिलाना काम हैमेरा

    जैसे चाहो सजाओ मेरे गुलदानों को
    खुश्बू ऐ जीस्त उगाना काम है मेरा

    मै परिंदा हवाओं का हमसफर हरदिन
    मैं हूँ गर्दूं और सुखन असमान है मेरा

    सम्हालो शौक से नगमात हैं तुम्हारे लिए
    तुम्हारे जज्बे को केसरी सलाम है मेरा

    ReplyDelete
  4. मैं तो उलझा हूँ खुशबुओं की खेती मे
    सजाओ तुम, गुल खिलाना काम है मेरा

    वाह! गर्दू जी वाह!! प्रतिक्रिया में ही सही मेरे मन के भावो को अभिव्यक्त कर दिया आपने. मेरा वीनस केसरी जी को धन्यवाद.
    गर्दू जी, अनुरोध है कि इस रचना को स्वतंत्र रूप से पोस्ट करें ताकि हम जैसे प्रशंसकों को बाद में भी ढूढने में आसानी हो.
    राम राम.

    ReplyDelete
  5. एक बात और आपके ब्लॉग की नई थीम पुरानी थीम से ज्यादा अच्छी है.
    राम राम

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  7. बहुत खूबसूरती से पेश किया आपने इस कविता को.....क्या शब्दों का प्रयोग किया आपने...मैं तो निशब्द हूँ!
    और मेरे ब्लॉग में आपकी शायरी की दात देनी पड़ेगी!

    ReplyDelete
  8. आपकी सुंदर टिपण्णी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
    मुझे आपका ये कविता बेहद पसंद आया! इतना अच्छा लगा कि कहने के लिए अल्फाज़ नहीं है!

    ReplyDelete
  9. संभलो तहजीब पे हमलों का दौर है गर्दूं
    बहोत है दर्दे वतन मरहम चढाओ घावों में

    अति संवेदनशील और देशभक्ति भावना से ओतप्रोत शेर

    बधाई

    चन्द्र मोहन गुप्त

    ReplyDelete
  10. बहोत अंधेरा घिर आया है दिल की राहों में
    जलाओं दीप मोहब्बत के तुम निगाहों में

    वाह....बहुत खूब......!

    संभलो तहजीब पे हमलों का दौर है गर्दूं
    बहोत है दर्दे वतन मरहम चढाओ घावों में

    लाजवाब ....!! गाफिल जी आपके शे'रों में दिन पर दिन निखार आता जा रहा है ......bdhai...!!

    ReplyDelete
  11. गुर्दू गाफिल जी शायद आपको पता नहीं है कि शाहिद मिर्जा जी का इंतकाल हुए कुछ अर्सा हो गया है।

    हो सके तो लिख डाला ब्‍लॉग में अपना कमेंट डिलीट कर आइए।
    मैंने आज ही देखा तो सोचा कि आपको आगाह कर दूं।

    ReplyDelete
  12. अनोनमस जी
    सूचना के लिए धन्यवाद किन्तु टिप्पणी तो वर्षा जी की स्वीक्रति के बाद ही प्रकाशित होनी थी .
    उन्होंने यह टिप्पणी प्रकाशित ही क्यों की होगी ?
    सहृदयता के लिए आभार

    ReplyDelete
  13. आपके ब्लाग की सज्जा अकल्पनीय है बधाई और हां प्रस्तुत गजलनुमा रचना के लिये भी बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
  14. बहोत अंधेरा घिर आया है दिल की राहों में
    जलाओं दीप मोहब्बत के तुम निगाहों में

    bahut khoob gafil ji, sunder rachna ke liye badhaai sweekaren.

    ReplyDelete
  15. gafil ji,
    bahut khoob!aap ko is rachna ke liye bahut dhanyawaad.

    ReplyDelete
  16. नागफनी आँखों में लेकर सोना हो पाता है क्या
    उम्मीदों में उलझके कोई चैन कहीं पाता है क्या

    बीज मोहब्बत के रोपे फिर छोड़ गए रुसवाई में
    दर्द को मैंने कैसे भोगा कोई समझ पाताहै क्या

    धुप का टुकडा हुआ चांदनी खुसबू से लबरेज़ हुआ
    चाँद देख कर दूर देश में याद कोई आता है क्या

    मेरे ब्लॉग पर इन गजब के शे,रों से कमेन्ट देने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया ......!!

    ReplyDelete
  17. Aksar aapki tippaneeka jawab dene aati hun, aur aapki rachnayen, baar, baar padhte hue, wahee baat bhool jati hun!
    Khair, aapko batane aayi thee,ki, "aajtak takyahan tak" pe "Bole tu kaunsi bolee" is sheershak tehet ,kuchh halke fulke lamhaat yaad kar rahee hun!
    Intezar rahega!
    Jis rachnake tehet,ye likh rahee hun, use badhke nishabd hun...watanke liye dilme ek dard liyehi, koyi aisa likh sakta hai...

    ReplyDelete

LinkWithin

विजेट आपके ब्लॉग पर