Wednesday, June 10, 2009

असर हम पर न हो जाए जमाना है बदलने का
सफर है जिंदगी भर का ,है वादा साथ चलने का

मुसीबत ने बयां कर दी मुसीबत रिश्ते नातों की
बहाना ढूंढते हैं दोस्त, कतरा... के निकलने का

नजरफिसली नआई काम में फ़िरकोई होसियारी
नहीं मौका मिला अब के जरा सा भी संभलने का

नदी सूखी.पड़ी है, अब परिंदे ,क्या करें ?आकर
हवाओं में जलन है,,ये नहीं मौसम ,टहलने का

गुफ्तगू बा अमल कर दे बना कुछ कायदा ऐसा
यही एक रास्ता बचता है दिल की गांठ खुलने का

21 comments:

  1. bahut hi sunder najm hai sir ....apki kuch njam padhi ..bahut hi lajavaab hai ...ek se badhkar ek
    ..hamare blog par aane or shahrane ke liye shukriya ...apki coments hamesha vicharne yogya hoti hai ..poetry ki samajh abhi kam hai isliye aap sab ke beech rehkar bahut kuch samajhne or seekhne ko mil raha hai ...bahut bahut dhanyavad ..pranaam

    ReplyDelete
  2. गुफ्तगू बा अमल कर दे बना कुछ कायदा ऐसा
    यही एक रास्ता बचता है दिल की गांठ खुलने का
    बढिया ।

    ReplyDelete
  3. नदी सूखी.पड़ी है, अब परिंदे ,क्या करें ?आकर
    हवाओं में जलन है,,ये नहीं मौसम ,टहलने का ....ab hwao se bhi darne lage hai log......khubsurt bhav...

    ReplyDelete
  4. waah. बहुत बढ़िया....
    समकालीन ग़ज़ल पत्रिका का प्रकाशन हो गया है...आप के सुझावों की बहुत आवश्यकता है।स्तम्भ कैसे हैं ?जरूर बतायें....

    ReplyDelete
  5. pehle sher me "zamana hai" ki jagah "hai zamana" likhen par pehla sher shayd aur behtar sound karega....iske alawa bahut zordaar likha hai....har soch kamaal ki hai....doosre sher ka andaaz-e-bayaa to mashalalah :)

    ReplyDelete
  6. सभी शेर पसंद आये
    खूबसूरत गजल

    वीनस केसरी

    ReplyDelete
  7. Behtareen....likhte rahiye...badhai

    ReplyDelete
  8. नदी सूखी पड़ी है....
    ...... यह मौसम नही टहलने का

    बडा खूबसूरत बन पड़ा है।

    बधाईयाँ

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    ReplyDelete
  9. सबसे पहले तो एक और बेहतरीन नज़्म के लिए आपका बहुत-बहुत शुक्रिया......आगे समाचार इस प्रकार है कि आपने मेरे ब्लॉग पर आकर जो बहुमूल्य सुझाव दिए थे, उनके लिए भी आपका शुक्रिया....आपके आदेश को शिरोधार्य मानकर मैंने कितना बदल गया भगवान : भाग-२ (कारण) के रूप में इस समस्या के कारण खोजने की एक छोटी सी कोशिश की है......उम्मीद है यह छोटा सा प्रयास आपको पसंद आएगा.....

    शेष फ़िर.....

    साभार
    हमसफ़र यादों का.......

    ReplyDelete
  10. असर हम पर न हो जाए जमाना है बदलने का
    सफर है जिंदगी भर का ,है वादा साथ चलने का

    मुसीबत ने बयां कर दी मुसीबत रिश्ते नातों की
    बहाना ढूंढते हैं दोस्त, कतरा... के निकलने का

    नदी सूखी.पड़ी है, अब परिंदे ,क्या करें ?आकर
    हवाओं में जलन है,,ये नहीं मौसम ,टहलने का

    इन शेरों के लिए आपका जबाव नहीं.... बहुत ही उम्दा शेर है...

    ReplyDelete
  11. एक बहुत कसी हुई रचना. आपके बेहतरीन शायर और बेहतरीन इन्सान होने का एतराफ मैं पहले भी कर चुका हूँ. 'पेट और पीठ' वाले शेर का सन्दर्भ केवल इतना ही सोचा था कि गरीबी का इज़हार करने में भी लोगों की 'इगो' खडी हो जा रही है. शायद मैं इस शेर को सम्प्रेषित नहीं कर पाया. यार, आदमी हूँ, भूल चूक हो ही जाती है.

    आप इस गजल में आख़िरी शेर, 'गुफ्तगू' की जगह 'सुखन को' कर लें तो बहर की टांग नहीं टूटेगी.

    ReplyDelete
  12. sabhi sher behatareen, gafil ji bahut bahut mubarak kubul farmayen.

    ReplyDelete
  13. गजल तो बहुत अच्छी है ,मगर गजल के उसूल के अनुसार 'खुलने का' काफिया जायज़ नहीं है .---मंज़रुल हक मंज़र 9839267013

    ReplyDelete
  14. उम्र भर साथ था निभाना जिन्हे
    फ़ासला उनके दरमियान भी था

    श्याम सखा ‘श्याम
    मेरे ब्लॉग्स http//:gazalkbahane.blogspot.com/

    ReplyDelete
  15. Aapne apnee kavyamay tippaneeyon se mujhe bohot din mehroom rakha hai...!
    Kya koyi narazgee to nahee?

    mai itnee saaree tippaneyon ke baad kya likhun? Khamosh hun, stabdh hun...!

    Apnee beemaar maa ko aapkee rachnayen sunatee rahee...

    snehadar sahit
    shama

    ReplyDelete
  16. माननीय गर्दू-गाफिल जी
    जय हिंद
    मुआफी चाहूंगी आपसे कि मंज़र जी के दबाव डालने पर आपको 'खुलने' पर एतराज से सम्बंधित कमेन्ट पोस्ट किया ,मैं गजल की तकनीकियों से नावाकिफ हूँ ,कवितायें लिख लेती हूँ मंज़र साहब आये थे ,मेरे मुंह से आपकी गज़लों की तारीफ़ निकल गयी ,तो उन्होंने आपको पढ़ना चाहा , मैंने आपका ब्लॉग खोल कर दिखा दिया ,फिर उन्हें खुलने' पर एतराज हो गया और उन्होंने कमेन्ट करना चाहा ,मैं उनके एतराज से सहमत नहीं थी तो उन्होंने फरमाया कि मेरे नाम से कमेन्ट दीजिये ,फिर मैंने कहा कि अपना नम्बर भी दीजिये ताकी आपके एतराज से गाफिल जी संतुष्ट न हो तो आपसे बात कर लें ,उन्होंने नम्बर भी लिखा दिया .
    मैंने ये सारा वाकया शाम को सर्वत साहब को सुनाया और दांत खाई कि ये पुराने लोग गजल को अपने मीटर से नापते हैं हिन्दी के मीटरको मानते ही नहीं ,तुम्हे नहीं लिखना था .अब आप ही बताएं कि मुझे क्या करना चाहिए ,मेहमान का अपमान भी तो अच्छा नहीं और वो बुजुर्ग होने के साथ-साथ सर्वत साहब के मित्र भी हैं
    इसलिए आपसे मुआफी चाहती हूँ क्योंकि 'खुलने'से मुझे कोई एतराज नहीं ,वह बिलकुल ठीक है
    आप समझदार हैं आपने अनुमान लगा लिया है तो हमसे पूछते क्यों हैं?

    ReplyDelete
  17. वाह वाह /
    गज़लो के इस ब्लोग से मै कैसे अनज़ान रहा???
    बहुत खूब लिखते है जनाब आप/

    ReplyDelete
  18. etna khubsurat comment...main kya kahu ab...

    ReplyDelete
  19. ख़ूबसूरत अशआर से जन्मी लजवाब ग़ज़ल

    ReplyDelete
  20. शानदार ग़ज़ल के सभी शेर एक से बढ़ कर.
    बधाई.

    नदी सूखी.पड़ी है, अब परिंदे ,क्या करें ?आकर
    हवाओं में जलन है,,ये नहीं मौसम ,टहलने का

    पर घर बैठ कर टिप्पणी करने का तो मौसम है............... सो कर रहा हूँ.

    चन्द्र मोहन गुप्त

    ReplyDelete

LinkWithin

विजेट आपके ब्लॉग पर