Thursday, October 1, 2009

शरद पूर्णिमा की शुभ कामनाये


चांदनी हो मुबारक सभी को चाँद आया है रस बरसाने
लेके अंगडाई अरमान जागे, फ़िर हरे हो गए हैं फ़साने

वक्त के घोल में तल्खियों को ,यूँ खंगाला बहुत वक्त मैंने
दाग दिल के मगर सख्त निकले ,आगये चांदनी में रुलाने

सूखी हुई झाडियों में ,आज खिल आई है फ़िर से कोंपल
उम्र दौडी है पिछली गली में ,गुजरे कल को गले से लगाने

हर सदी लेके आई सदी को ,बिना पूंछे ही नेकी बदी को
आप आए न दामन झटक कर,चांदनी आ गयी फ़िर बुलाने

याद के बुलबुले झाग बन कर, छा गए उम्र की वादियों में
आँख छलकीहै शायद तुम्हारी,बनके शबनम लगी मनभिगाने


17 comments:

  1. shabdon ka akaal pad gaya gafil ji , shabd kahan se laaun, bas ..........anupam .....rachna. dheron badhaai.

    ReplyDelete
  2. खूबसूरत कहन आपको भी शरद पूर्णिमा की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  3. चांदनी हो मुबारक सभी को चाँद आया है रस बरसाने
    लेके अंगडाई अरमान जागे, फ़िर हरे हो गए हैं फ़साने ...fsaane hare hi rahte hai...gujre kal ko bhala koun gale laga paya hai....hath me jo aye wo apna hi saya hai...shabnam shayd sach me kisi ankh se chhalki hai.....

    ReplyDelete
  4. शरद पूर्णिमा की बधाई के साथ प्रस्तुत कविता पूनम के चाँद को और भी हसीन बना गयी. जैसे आपकी कविता के मुकाबले प्रकाशित चित्र २१ साबित हो गया, हालाँकि कविता का हुस्न अपनी जगह बरकरार है.
    मेरी ओर से शरद पूर्णिमा, गाँधी जयंती, शास्त्री जयंती, मजरूह सुल्तानपुरी जयंती पर एक साथ शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  5. चित्र लुभा रहा है..और आप की यह ग़ज़ल भी..
    आखिरी शेर बहुत खूबसूरत लगा!

    ReplyDelete
  6. चांदनी हो मुबारक सभी को चाँद आया है रस बरसाने
    लेके अंगडाई अरमान जागे, फ़िर हरे हो गए हैं फ़साने

    गर्दू जी आदाब.....!!

    आपके शब्द को कहर बरसा रहे हैं .....!!

    ReplyDelete
  7. शरद पूर्णिमा की शुभकामनायें! बहुत ख़ूबसूरत चित्र है और साथ में बेहद सुंदर कविता जो काबिले तारीफ है!

    ReplyDelete
  8. एक ही जिंदगी अपने काबू में है
    वक़्त है कीमती जाया क्यूँ कर दिया
    जो घरोंदे गए ,बे पसीना न थे,,,
    मिला था लहू भी जिगर जान का
    आँख roye न roye मगर dilka क्या
    zakhm bahta है jhar jhar katee aan का
    shauke bijlee ने foonka nasheman को
    है andaz किसको दिल के toofan का
    niradar की saree haden langh कर
    ये dava ?bachaya है samman को
    uf katil muqaddar को क्या अब kahen
    til til jalata है ये jan को

    Aapki ye nayab panktiyaan choo gayin ....shukariya ....!!

    Tasveer dekh ek geet ki panktiyaa yaad aa gayi ...." Mujhko is raat ki tanhaai mein aawaaz n do ......"

    ReplyDelete
  9. waaaaah gafil ji m short of wards .....sach me bahut badhiya najm hui hai .....maja aa gaya padhkar ....

    ReplyDelete
  10. Khoob soorst nazm padh man aanandit hua...Deepon ka tyohar aap aur aapek pariwarko bahut mubarak ho!
    Dua karun ki chandanee aisehee bulane aya kare..

    ReplyDelete
  11. आपको और आपके परिवार को दीपावली की मंगल कामनाएं.

    ReplyDelete
  12. चांदनी मुबारक ,
    अब आप भी चांदनीमय हो जाएँ क्यूंकि मुझे इस शबनम में कुछ आग दिख रही है
    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  13. bahut achchi kavita
    bahut pasand aaye aapke khyaalaat

    ReplyDelete
  14. यह व्यस्तता है या मेरे सिस्टम की खराबी, आज भी जब आपका ब्लॉग खोलता हूँ वही शरद पूर्णिमा सामने आ जाती है. अगर यह सच है तो भाई मेरे आप नम्बर वन हो गये. मैं खुद को ही सबसे बड़ा काहिल समझता था लेकिन अब पता चला कि....'हैं और भी दुनिया में सुखनवर बहुत अच्छे...' ऐसा कब तक चलेगा भाई?

    ReplyDelete
  15. 'Aye chand sun mere shikve,
    Teree hee chandanee barsaake,
    Barson rula raha hai koyi...'
    Aapki rachnaon pe kya comment karun?

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    http://baagwaanee-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    ReplyDelete
  16. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 26 अक्टूबर 2015 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete

LinkWithin

विजेट आपके ब्लॉग पर